कांग्रेस खेलेगी जिताऊ पर ‘दांव’

-न उम्र की सीमा होगी और न शर्तों का बंधन, लक्ष्य हर हाल में सरकार बनाना 
डॉ के. आर. गोदारा
जोधपुर। राजस्थान में इस बार कांग्रेस चुनाव में हर वो कदम उठाने जा रही है जिससे उसे जीत हासिल हो सके। इसके लिए कांग्रेस ने टिकट चाहने वाले प्रत्याशियों के लिए पूर्व में लागू की गई सभी शर्तों से समझौता तक करने की नीति अपनाई है। राजस्थान में राजस्थान में करीब चार माह बाद होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस जिताऊ उम्मीदवार पर दांव लगाएगी। इसके लिए न तो उम्र की कोई सीमा होगी और न ही शर्तों का कोई बंधन। कांग्रेस सूत्रों के अनुसार आगामी विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी तय करने का काम शुरू हो गया है। सर्वे एजेंसियों के साथ ही कार्यकर्ताओं से संभावित प्रत्याशियों को लेकर फीडबैक लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पार्टी का लक्ष्य ‘जिताऊ’ प्रत्याशी को मैदान में उतारना है। 70 साल से अधिक उम्र के नेताओं और लगातार दो बार चुनाव हारने वालों को टिकट नहीं देने की पार्टी की पुरानी गाइड लाइन दर किनार कर पार्टी का एकमात्र लक्ष्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनाना है।
आलाकमान करेगा फैसला
इधर कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट भी टिकट को लेकर स्पष्ट कर चुके हैं कि यदि 70 साल से अधिक उम्र के नेता भी चुनाव जीतने की क्षमता रखते होंगे तो उन्हें भी टिकट दिया जाएगा। एक सवाल के जवाब में सचिन ने कहा कि लगातार दो बार चुनाव हारने वालों को भी उसी शर्त पर टिकट दिया जाएगा जो कि आगामी चुनाव में जीतने की क्षमता रखते होंगे। यदि कोई नेता दो बार हार चुका है, लेकिन इस बार उसकी जीत के चांस ज्यादा है तो उसे भी टिकट दिया जा सकता है। हालांकि किसी को टिकट देना या न देने का फैसला आलाकमान ही करेगा, लेकिन अभी ब्लॉक स्तर पर मिले फीडबैक और जिला स्तर पर संगठन की ओर से भेजे गए नामों पर चर्चा की जा रही है।
कार्यकर्ताओं से होगा संवाद
पिछले दिनों जयपुर में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के रोड शो और पार्टी प्रतिनिधियों की सभा के बाद अब कांग्रेस आगामी विधानसभा चुनाव से पहले भरतपुर, बीकानेर, कोटा और जोधपुर संभाग में राहुल गांधी की सभाएं आयोजित कराने पर विचार कर रही है। इस बारे में अधिकारिक रूप से अगले दो-तीन दिन में कार्यक्रम तय हो जाएगा। वहीं चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद राहुल गांधी की प्रदेश में 10 बड़ी सभाएं आयोजित कराने की पार्टी ने रणनीति बनाई है। इससे पहले राष्टÑीय महासचिव अविनाश पांडे, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पार्टी प्रदेशाध्यक्ष अध्यक्ष सचिन पायलट और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ.सीपी जोशी संयुक्त रूप से जिलों की यात्राएं कर पार्टी कार्यकर्ताओं से संवाद करने के साथ ही आम मतदाताओं से भी रूबरू हो रहे हैं।