स्वभिमान की रक्षा ना कर सके ऐसी सरकार को उखाड़ फेंकों- चित्रासिंह

-स्वभिमान रैली को लेकर सभा आयोजित, उमड़े हज़ारों लोग
बाड़मेर। आगामी 22 सितम्बर को प्रस्तावित पचपदरा ‘स्वभिमान रैली’ को लेकर चर्चाएं जोरों पर हैं। वहीं जसोल परिवार सहित उनके समर्थको द्वारा जिले भर में जनसंपर्क कर पचपदरा ‘स्वभिमान रैली’ में पहुंचने और सफल बनाने का आह्वान किया जा रहा है। इसी कड़ी में मंगलवार शाम बाड़मेर शहर के गांधी चौक में सभा का आयोजन किया गया। जहां हज़ारों लोगों ने पहुंचकर सभा को समर्थन दिया। सभा में वक्ताओं ने अपने विचार रखते हुए वसुंधरा सरकार पर हल्ला बोला। वक्ताओं ने कहा कि पूर्व रक्षा, वित्त एवं विदेशमंत्री रह चुके जसवंतसिंह ने भाजपा के लिए अपना पूरा जीवन दाव पर लगा दिया। लेकिन, भाजपा ने 2014 के चुनावों जसवंतसिंह का टिकट काट दिया। जिसे बाड़मेर-जैसलमेर की जनता भूली नहीं है। साथ ही दुर्जनसिंह ने राजस्थान मुख्यमंत्री को क्रिमिनल मुख्यमंत्री बताते हुए कहा कि उनकी शासन में लगातार क्राइम बढ़ा है। प्रवीणसिंह आगोर ने कहा कि राजस्थान में मुख्यमंत्री राजे के चलते युवाओं पर बेवजह ही मुकदमे बनाये जा रहे है। उन्होंने कहा कि बाड़मेर- जैसलमेर सांसद ने अपनी पहुंच के चलते झूठा हमला बताकर युवाओं पर मुकदमा बनवाया, आनंदपाल एनकांउटर, कथित चुटरसिंह एनकांउटर, गौरव यात्रा में विरिध करने पर युवाओं पर मुकदमे भी करवाए गए। युवा ऐसी सरकार को अब मुंह तोड़ जवाब देगा। आजड़सिंह ने कहा कि जसोल परिवार ने राजस्थान ही नहीं देश के लिए अपने आप को समर्पित किया है। उन्होंने कहा कि ‘स्वभिमान रैली’ के रूप में ये आखिरी आवाज़ है अगर सुन सको तो सुन लो वरना आने वाली पीढ़िया आपको अभी माफ नहीं कर पायेगी।
सभा को संबोधित करते हुए जसवंतसिंह जसोल की पुत्रवधू चित्रासिंह ने कहा कि 2014 में जो युद्ध शुरू हुआ था उसे अब खत्म करने का समय आ गया है। उन्होंने कहा कि जो सरकारें हमारे स्वभिमान की रक्षा नहीं कर सकती, उन्हें उखाड़ फेंकना ज़रूरी हो गया है। चित्रासिंह ने कहा कि दाता (जसवंतसिंह) ने भाजपा को स्थापित करने के लिए अपने पुरे जीवन को लगा दिया लेकिन, भाजपा ने उस व्यक्ति के लिए किस तरह का व्यवहार किया। उन्होंने कहा कि बाड़मेर-जैसलमेर की जनता 2014 के घटनाक्रम को अभी भूली नहीं है और निश्चित रूप से जनता इस बात का बदला लेगी। साथ ही उन्होंने आगामी 22 सितम्बर में पचपदरा पहुंचकर रैली को सफल बनाने व राजस्थान को वसुंधरा मुक्त प्रदेश बनाने का आह्वान किया।