बीजेपी अफवाहें ना फैलाएं स्वाभिमान रैली होकर रहेगी : टीम मानवेन्द्र

-साढ़े चार साल की चुप्पी और अब पार्टी से किनारा ?
दुर्गसिंह राजपुरोहित
बाड़मेर. राजनितिक मैदान में उठापटक तेज हैं. बीजेपी कांग्रेस दोनों ही मैदान में पसीने बहाने के बाद भी चैन से नहीं हैं. ऐसे में पश्चिमी राजस्थान का बाड़मेर जिला एक बड़े राजनितिक परिवर्तन की सुगबुगाहट की आहट से चर्चाएँ जयपुर से दिल्ली तक बटोरे हैं. बीजेपी के संस्थापक सदस्य, भारत के सबसे चर्चित राजनेता पूर्व केन्द्रीय वित्त,विदेश एवं रक्षा मंत्री और राज्यसभा प्रतिपक्ष नेता रहे जसवंत सिंह के पुत्र कर्नल मानवेन्द्र सिंह आगामी 22 सितम्बर को ‘स्वाभिमान रैली’ के नाम से अपनी ताकत दिखा कर आगामी चुनावों की ताल ठोकेंगे. अब वो पिता की तरह बीजेपी से किनारा करके राजनितिक पारी की शुरुआत करते हैं या चर्चाओं के मुताबिक वो कांग्रेस का दामन थाम लेते हैं यह भविष्य के गर्भ में हैं.
बाड़मेर में लम्बे समय बाद जसवंत सिंह के दाता दल के सिपहसलार यानी मानवेन्द्र सिंह के राजनितिक जंग के सारथि मीडिया के सामने आये. पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष बलराम प्रजापत, रणजीत चौधरी, अधिवक्ता स्वरूप सिंह चाडी, मौलवी अब्दुल करीम, राम सिंह बोथिया, तेजदान देथा संयुक्त मीडिया कांफ्रेस में सामने आये. उन्होंने आगामी 22 सितम्बर को प्रस्तावित स्वाभिमान रैली के तय समय और दिन पर होने की बात कही. पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष बलराम प्रजापत ने कहा कि ‘बीजेपी के कुछ लोग भ्रम फैला रहे हैं कि राजपूत नेताओ से बात हो गई हैं और अब स्वाभिमान रैली नहीं होगी. जबकि , हमारी तैयारियों को पूरा कर लिया गया हैं और लाखों स्वाभिमानी लोगो के साथ रैली होगी.