कांग्रेस सत्ता में आई तो राजपूतों पर लगे सारे केस होंगे विड्रो!

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का राजपूत समाज से वादा, दिल्ली में राहुल गांधी से मिले राजपूत सभा के अध्यक्ष गिरिराज सिंह लोटवाड़ा
मुकेश चौधरी
जयपुर। विधानसभा चुनाव ज्यों-ज्यों नजदीक आ रहे है राजस्थान की राजनीति में उबाल आता जा रहा है। प्रदेश के कई राजनीतिक, सामजिक व आपराधिक मामलों को लेकर बीजेपी सरकार से नाराज चल रहे राजपूत समाज के पदाधिकारी बुधवार को दिल्ली में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से मिले। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव जितेन्द्र सिंह के जरिए हुई इस मुलाकात के कई सियासी मायने सामने आ रहे है। फिलहाल राजपूत समाज की इस बैठक के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजपूत सभा भवन के अध्यक्ष व गिरिराज सिंह लोटवाड़ा समेत अन्य लोगो को आश्वसान दिया है कि यदि कांग्रेस सत्ता में आई तो राजस्थान के राजपूतों पर लगे झूंठे मुकदमें वापस लिए जाऐंगे। करीब एक घंटे तक चली इस बैठक में राजपूत समाज के लोगो ने आगामी विधानसभा व लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को सर्मथन देने का वायदा किया है। बैठक में राहुल गांधी ने राजपूत समाज के नेताओं से राजस्थान में चुनाव को ध्यान में रखते हुए कई जानकारिया साझा की। जिनमें आगामी 22 सितंबर को पचपदरा में शिव विधायक मानवेन्द्र सिंह द्वारा आयोजित की जा रही स्वाभिमान रैली का भी जिक्र हुआ। बताया जा रहा है कि मानवेन्द्र सिंह ने कांग्रेस में शामिल होने के संकेत दिए है मगर इस संबंध में फिलहाल खुद मानवेंद्र सिंह ने गोपनीय रखा है। मानवेंद्र ने गत दिनों मीडिया से बातचीत में कहा था कि स्वाभिमान रैली में हिस्सा लेने वाले समाज के लोग ही तय करेंगे की उनको क्या करना है।
इसलिए नाराज है राजपूत
आपको बता दे कि मारवाड़ के राजपूत समाज में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को लेकर नाराजगी है। राजपुतों का कहना है कि पिछले चुनाव में सीएम ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह का टिकट काट दिया था। उसके बाद आनंदपाल व चतुर सिंह एनकाउंटर में गलत जांच व राजपूत समाज के लोगो पर दर्ज हुए केसों को लेकर समाज के लोग बीजेपी सरकार व सीएम दोनो से नाराज है। हाल ही में आंनदपाल प्रकरण समेत चार केसों की जांच कर रही सीबीआई ने नामजद राजपूत समाज के कई नेताओं व पदाधिकारियों को पूछताछ के लिए दिल्ली भी बुलाया था।