राजस्थान भाजपा अध्यक्ष-इंतजार खत्म, ऐलान की तैयारी

प्रधानमंत्री के दखल से हलचल बढ़ी
ओम माथुर को सौंपी गई जिम्मेदारी
बैठकों व कयासों का दौर फिर शुरू

नीरज दवे
मुंबई। राजस्थान भाजपा अध्यक्ष को लेकर लगभग पचास दिन चली माथापच्ची अब खत्म होने के कगार पर पहुंच गई है। रविवार को इस मामले में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सीधे हस्तक्षेप के बाद माना जा रहा है कि आने वाले एक-दो दिन में राजस्थान भाजपा के नए अध्यक्ष के नाम की घोषणा कर दी जाएगी।

मोदी ने किया हस्तक्षेप

राजस्थान भाजपा अध्यक्ष के तौर पर आम राय नहीं बनती देख खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मामले में सीधा हस्तक्षेप किया है। खबरों के मुताबिक प्रधानमंत्री ने इस मामले में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से बातचीत भी की है और राजस्थान भाजपा अध्यक्ष को लेकर चल रहे गतिरोध को अतिशीघ्र मिटाने और नए प्रदेश प्रमुख के नाम की घोषणा करने को लेकर निर्देश भी दिए हैं। इसी कड़ी में, रविवार को पार्टी प्रमुख अमित शाह ने रविवार देर रात राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर से मुलाकात की है। खबरिया चैनलों के मुताबिक इस मुलाकात में अमित शाह ने ओम माथुर को पार्टी के राज्य स्तरीय एवं प्रभावशाली नेताओं से विचार-मंथन कर मंगलवार तक रिपोर्ट तलब की है।

‘मिशन’ पर लगे माथुर

राजस्थान भाजपा प्रदेशाध्यक्ष के नाम को अंतिम रूप देने तथा पार्टी नेताओं में आम राय बनाने के लिहाज से ओम माथुर सोमवार सवेरे से ही अपने मिशन पर लग गए। मिल रहीं खबरों के अनुसार माथुर ने सोमवार को केन्द्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल तथा सीआर चौधरी से बंद कमरे में मंत्रणा की है। जिसमें आगामी चुनाव के मद्देनजर नए प्रदेश प्रमुख को लेकर नामों पर चर्चा की गई है। बताते चलें कि मेघवाल बीकानेर से और चौधरी नागौर से सांसद हैं। इसके अलावा भी माथुर ने सोमवार दिन भर पार्टी के कई दिग्गज नेताओं से फोन पर भी अपने एक सूत्रीय मिशन पर लंबी मंत्रणा की है। जिसमें आने वाले दिनों में चुनाव को ध्यान में रखते हुए जातिगत समीकरणों को केन्द्र में रखते हुए कई नामों पर विचार विमर्श किया गया है।

अब ‘अधिक मास’ का रोड़ा

राजस्थान भाजपा के निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष अशोक परनामी ने गत 16 अप्रेल को ही अपना इस्तीफा पार्टी प्रमुख अमित शाह को भेज दिया था। व्यक्तिगत व्यस्तताओं का हवाला देते हुए परनामी ने 18 अप्रेल को अपने इस्तीफे की सार्वजनिक तौर पर पुष्टि की थी। तब से लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष को लेकर कई तरह के कयासों और कई नामों पर चर्चाओं के दौर चलते रहे। 26 अप्रेल तक नए प्रदेश अध्यक्ष को लेकर एक के बाद एक कई नाम चलते रहे। इसी बीच, कर्नाटक चुनाव का हवाला देते हुए नए अध्यक्ष की घोषणा को टाल दिया गया। इसके बाद विभिन्न उप चुनाव में पार्टी नेताओं की व्यस्तता के कारण नए प्रदेश अध्यक्ष के ऐलान को टाला गया। फिर बताया गया कि ‘अधिक मास’ के चलते घोषणा में देरी हो रही है। लेकिन अब प्रधानमंत्री के सीधे दखल और पार्टी अध्यक्ष की सक्रियता से माना जा रहा है कि राजस्थान भाजपा के नए मुखिया के नाम पर एकाध रोज में ‘मंजूरी’ की मोहर लग जाएगी। जिसकी घोषणा 12 जून के आसपास कभी भी की जा सकती है।