कांग्रेस विधायक पर हमले के बाद प्रियंका रायबरेली पहुंचीं, प्रशासन, उप्र सरकार पर साधा निशाना

रायबरेली (उप्र), जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान को लेकर हुई हिंसा के बाद बुधवार को अचानक रायबरेली पहुंची कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने स्थानीय प्रशासन और भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधा।
उन्होंने इस मुद्दे पर प्रदेश के राज्यपाल और चुनाव आयोग से मिलने की बात भी कही।
मंगलवार को सदर विधायक और जिला पंचायत सदस्यों पर हमले के बाद बुधवार को प्रियंका फुरसतगंज हवाई अड्डे पहुंची। वह वहां से सीधे तिलक भवन कांग्रेस कार्यालय पहुंची जहां उन्होंने जिला पंचायत सदस्यों से मुलाकात की। वह सदर विधायक अदिति सिंह से भी मिलीं।
इस हमले में विधायक अदिति सिंह तथा कई अन्य लोग घायल भी हो गए थे।
प्रियंका ने बाद में संवाददाताओं से बातचीत में दावा किया, प्रशासन ने किसी भी जिला पंचायत सदस्य की मदद नहीं की और जब वह कारवां आ रहा था तब भी प्रशासन ने कुछ नहीं किया। खुले आम कट्टे, पत्थर और लाठियों से जिला पंचायत सदस्यों को मारा गया। सदस्यों को गाड़ी से घसीटकर मारा गया। यह कैसा लोकतंत्र चल रहा है। राज्य में भाजपा की सरकार है और इस तरह की घटनाएं हो रही हैं।
उन्होंने कहा, प्रशासन बैठा हुआ है और हम पूरी तरह से कानूनी कार्वाई करेंगे। कांग्रेस के नेता राज्यपाल से मुलाकात कर रहे हैं और दिल्ली में चुनाव आयोग से मिल रहे हैं। जितना भी हमारा राजनीतिक जोर है, हम लगाएंगे। पूरी कानूनी कार्वाई करेंगे, अगर प्रशासन के खिलाफ भी एफआईआर करनी होगी तो हम करेंगे। यह लोकतंत्र पर हमला है , यह रायबरेली पर हमला है।
गौरतलब है कि रायबरेली में मंगलवार को जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान को लेकर हुई हिंसा में कांग्रेस की सदर विधायक अदिति सिंह समेत कई लोग घायल हो गए थे।
पुलिस सूत्रों के मुताबिक जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश प्रताप सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान के लिए कुछ सदस्य आ रहे थे। आरोप है कि पंचायत सदस्यों की अगुवाई कर रहे सदस्य राकेश अवस्थी को बछरावां की सीमा में निगोहा थाना क्षेत्र में स्थित टोल प्लाजा पर दबंगों ने मारपीट कर गंभीर रूप से घायल कर दिया।
वहीं, रायबरेली सदर से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने आरोप लगाया कि वह मतदान का जायजा लेने जा रही थीं, तभी हरचंद थाना क्षेत्र में उनकी कार को पीछे से टक्कर मारी गई, जिससे वह पलट गई। उन्हें बाएं हाथ में चोट आई है। इसके अलावा कार में सवार कई अन्य लोग भी घायल हो गए। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
टोल प्लाजा पर जिला पंचायत सदस्यों पर हमले की सूचना के बाद जिलाधिकारी नेहा शर्मा और पुलिस अधीक्षक सुनील सिंह ने टोल प्लाजा पहुंचकर घटना की जानकारी ली। घटना की सूचना पर पुलिस महानिरीक्षक भी रायबरेली पहुंचे।
अदिति ने इस हमले के लिए जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश प्रताप सिंह को दोषी ठहराते हुए आरोप लगाया है कि हमलावर हथियार, पत्थर और आयरन की छड़ें लिए हुए थे। इस घटना पर शासनप्रशासन चुप है।
गौरतलब है कि अवधेश विधान परिषद सदस्य और इस बार रायबरेली से भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़े दिनेश प्रताप सिंह के भाई हैं।
इस बीच, अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान के लिए पीठासीन अधिकारी नियुक्त किए गए अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सिद्धार्थ सिंह ने पंचायती राज विभाग के प्रमुख सचिव को भेजे गए पत्र में कहा है कि जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को लेकर होने वाली बैठक की कार्यवाही कोरम पूरा नहीं होने की वजह से समाप्त घोषित कर दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here