मोदी सरकार की दूसरी पारी में बदल सकता है शाह का रोल, बनेंगे मंत्री?

अब इस बात की चर्चा होने लगी है कि मोदी मंत्रिमंडल में कौन-कौन शामिल हो सकता है. इनमें सबसे चर्चित नाम है गांधी नगर से भारी मतों से जीते बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का. अमित शाह को कोई प्रमुख मंत्रालय मिल सकता है, तो कई अन्य मंत्रियों की उनके काम का इनाम देते हुए तरक्की हो सकती है.
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को मिल सकता है प्रमुख मंत्रालय

बीजेपी को मिली प्रचंड जीत के बाद अब इस बात की चर्चा होने लगी है कि अगले हफ्ते नरेंद्र मोदी के पीएम पद की शपथ लेने के बाद उनके मंत्रिमंडल में कौन-कौन शामिल हो सकता है. इनमें सबसे चर्चित नाम है गांधी नगर से भारी मतों से जीते बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का.अमित शाह को कोई प्रमुख मंत्रालय मिल सकता है, तो कई अन्य मंत्रियों को उनके काम का इनाम देते हुए तरक्की हो सकती है.
लोकसभा में पहली बार पहुंचने वाले शाह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति में शामिल हो सकते हैं. गौरतलब है कि सीसीएस में पीएम के अलावा रक्षा, गृह, विदेश और वित्त विभाग के चार शीर्ष मंत्री शामिल होते हैं. यानी शाह इनमें से कोई एक मंत्री बन सकते हैं.

गौरतलब है कि गुजरात में नरेंद्र मोदी के सीएम रहने के दौरान अमित शाह उनकी सरकार में गृह मंत्री रह चुके हैं. इसलिए इसकी भी चर्चा है कि अमित शाह को केंद्र सरकार में गृह मंत्री बनाया जा सकता है. लेकिन मोदी की पहली सरकार में गृह मंत्री रहे राजनाथ सिंह इस बार भी लखनऊ से जीते हैं और पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेताओं में से हैं.

गोयल की होगी तरक्की!

यह भी लगता है कि राफेल पर घोटाले के आरोपों के बीच सफलता से मंत्रालय संभालने वाली निर्मला सीतारमण को फिर से रक्षा मंत्रालय मिलेगा. दूसरी तरफ, सरकार के लिए संकटमोचक की भूमिका निभाने वाले रेल मंत्री पीयूष गोयल को इस बार ज्यादा महत्वपूर्ण मंत्रालय मिल सकता है.

अरुण जेटली की सेहत पर चिंता

दूसरी तरफ, वित्त मंत्री अरुण जेटली की सेहत को लेकर चिंता है. उन्हें गुरुवार को ही दिल्ली के एम्स से डिस्चार्ज किया गया है और वह बीजेपी मुख्यालय पर होने वाले विजय उत्सव में शामिल नहीं हो सके. अगले महीनों में आने वाली आर्थिक चुनौतियों को देखते हुए पार्टी में यह चिंता है कि क्या सेहत को देखते हुए वह ऐसे मौके पर वित्त मंत्रालय संभाल सकते हैं?

जेटली करीब तीन हफ्ते से ऑफिस नहीं जा रहे थे. वह मोदी सरकार के पांच साल के कार्यकाल में ज्यादातर समय वित्त मंत्री रहे. इस साल २२ जनवरी को अमेरिका में एक महत्वपूर्ण सर्जरी कराने की वजह से वह मोदी सरकार का अंतिम बजट पेश नहीं कर पाए थे और पीयूष गोयल को यह जिम्मेदारी दी गई थी.

विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज ने इस बार लोकसभा चुनाव न लड़ने का निर्णय लिया था. सुषमा फिलहाल लोकसभा एवं राज्यसभा किसी सदन की सदस्य नहीं हैं.

स्मृति ईरानी को मिल सकता है जीत का इनाम

कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने अमेठी में राहुल गांधी के खिलाफ ऐतिहासिक जीत हासिल की है. उन्हें इसका इनाम मिल सकता है. इसके अलावा वीके सिंह को भी प्रमुख मंत्रालय देना मजबूरी होगी क्योंकि वह गाजियाबाद से दूसरी बार भारी मतों से जीते हैं.

अब इस बात की चर्चा होने लगी है कि मोदी मंत्रिमंडल में कौन-कौन शामिल हो सकता है. इनमें सबसे चर्चित नाम है गांधी नगर से भारी मतों से जीते बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का. अमित शाह को कोई प्रमुख मंत्रालय मिल सकता है, तो कई अन्य मंत्रियों की उनके काम का इनाम देते हुए तरक्की हो सकती है.
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को मिल सकता है प्रमुख मंत्रालय

बीजेपी को मिली प्रचंड जीत के बाद अब इस बात की चर्चा होने लगी है कि अगले हफ्ते नरेंद्र मोदी के पीएम पद की शपथ लेने के बाद उनके मंत्रिमंडल में कौन-कौन शामिल हो सकता है. इनमें सबसे चर्चित नाम है गांधी नगर से भारी मतों से जीते बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का.अमित शाह को कोई प्रमुख मंत्रालय मिल सकता है, तो कई अन्य मंत्रियों को उनके काम का इनाम देते हुए तरक्की हो सकती है.
लोकसभा में पहली बार पहुंचने वाले शाह मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में सुरक्षा मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति में शामिल हो सकते हैं. गौरतलब है कि सीसीएस में पीएम के अलावा रक्षा, गृह, विदेश और वित्त विभाग के चार शीर्ष मंत्री शामिल होते हैं. यानी शाह इनमें से कोई एक मंत्री बन सकते हैं.

गौरतलब है कि गुजरात में नरेंद्र मोदी के सीएम रहने के दौरान अमित शाह उनकी सरकार में गृह मंत्री रह चुके हैं. इसलिए इसकी भी चर्चा है कि अमित शाह को केंद्र सरकार में गृह मंत्री बनाया जा सकता है. लेकिन मोदी की पहली सरकार में गृह मंत्री रहे राजनाथ सिंह इस बार भी लखनऊ से जीते हैं और पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेताओं में से हैं.

गोयल की होगी तरक्की!

यह भी लगता है कि राफेल पर घोटाले के आरोपों के बीच सफलता से मंत्रालय संभालने वाली निर्मला सीतारमण को फिर से रक्षा मंत्रालय मिलेगा. दूसरी तरफ, सरकार के लिए संकटमोचक की भूमिका निभाने वाले रेल मंत्री पीयूष गोयल को इस बार ज्यादा महत्वपूर्ण मंत्रालय मिल सकता है.

अरुण जेटली की सेहत पर चिंता

दूसरी तरफ, वित्त मंत्री अरुण जेटली की सेहत को लेकर चिंता है. उन्हें गुरुवार को ही दिल्ली के एम्स से डिस्चार्ज किया गया है और वह बीजेपी मुख्यालय पर होने वाले विजय उत्सव में शामिल नहीं हो सके. अगले महीनों में आने वाली आर्थिक चुनौतियों को देखते हुए पार्टी में यह चिंता है कि क्या सेहत को देखते हुए वह ऐसे मौके पर वित्त मंत्रालय संभाल सकते हैं?

जेटली करीब तीन हफ्ते से ऑफिस नहीं जा रहे थे. वह मोदी सरकार के पांच साल के कार्यकाल में ज्यादातर समय वित्त मंत्री रहे. इस साल २२ जनवरी को अमेरिका में एक महत्वपूर्ण सर्जरी कराने की वजह से वह मोदी सरकार का अंतिम बजट पेश नहीं कर पाए थे और पीयूष गोयल को यह जिम्मेदारी दी गई थी.

विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज ने इस बार लोकसभा चुनाव न लड़ने का निर्णय लिया था. सुषमा फिलहाल लोकसभा एवं राज्यसभा किसी सदन की सदस्य नहीं हैं.

स्मृति ईरानी को मिल सकता है जीत का इनाम

कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने अमेठी में राहुल गांधी के खिलाफ ऐतिहासिक जीत हासिल की है. उन्हें इसका इनाम मिल सकता है. इसके अलावा वीके सिंह को भी प्रमुख मंत्रालय देना मजबूरी होगी क्योंकि वह गाजियाबाद से दूसरी बार भारी मतों से जीते हैं.

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद भी वर्षों तक राज्यसभा सदस्य रहने के बाद पहली बार लोकसभा पहुंच रहे हैं. वह पहले भी प्रमुख मंत्रालय संभाल चुके हैं और इस बार भी उन्हें कोई महत्वपूर्ण मंत्रालय मिल सकता है.

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद भी वर्षों तक राज्यसभा सदस्य रहने के बाद पहली बार लोकसभा पहुंच रहे हैं. वह पहले भी प्रमुख मंत्रालय संभाल चुके हैं और इस बार भी उन्हें कोई महत्वपूर्ण मंत्रालय मिल सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here