मेवाड़ बनेगा राजनीतिक शक्ति केंद्र, शाह और राहुल यूं बिछाएंगे बिसात

जोधपुर। विधानसभा चुनाव के लिए बिछी बिसात के बीच आने वाले दिनों में मेवाड़ राजनीति का शक्ति केंद्र बनने जा रहा है। चुनावी जोर-आजमाइश कर रही भाजपा-कांग्रेस उदयपुर में अपने शक्ति प्रदर्शन की तैयारी कर चुकी हैं। भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह जहां 18 सितम्बर से दो दिवसीय दौरे पर उदयपुर आ रहे हैं। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का दौरा भी उदयपुर संभाग में 20 सितम्बर को तय हो चुका है। शाह और फिर राहुल गांधी के दौरे के बीच उदयपुर संभाग की राजनीति अभी से गरमाने लगी है। दोनों दलों के सियासतदार एक-दूसरे से बढ़कर प्रदर्शन करने के लिए पूरा जोर लगा रहे हैं। जयपुर दौरे के बाद अब शाह 18 सितम्बर को उदयपुर पहुंचेंगे। यहां वे शक्ति केंद्र सम्मेलन के साथ ही कई अन्य कार्यक्रमों में भाग लेंगे। साथ ही पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक कर राजनीतिक हालात की समीक्षा करेंगे और आगामी रणनीति बनाएंगे। शाह के दौरे को देखते हुए पार्टी स्तर पर तैयारियां तेज हो चुकी है। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के 20 सितम्बर को उदयपुर संभाग में कार्यक्रम को देखते हुए पार्टी तैयारी में जुट गई है। इस संबंध में उदयपुर संभाग के जनप्रतिनिधियों और पार्टी पदाधिकारियों की बैठक के दौरान राहुल की यात्रा को लेकर चर्चा की गई। प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट सहित प्रमुख नेताओं की मौजूदगी में हुई इस बैठक में डूंगरपुर जिले में प्रस्तावित स्थल की लोकेशन स्थानीय नेताओं से मांगी गई थी। जिसमें आसपुर का नाम सामने आया है। हालांकि, उदयपुर संभाग में कांग्रेस का सम्मेलन कहां होगा, इसका निर्णय अभी तक नहीं हो सका है। हालांकि, चर्चा है कि जनजातीय लोगों के बीच पकड़ मजबूत करने के लिए यह सम्मेलन डूंगरपुर के आसपुर में रखा जा सकता है। जानकारी के मुताबिक आज प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, उदयपुर, चित्तौड़गढ़ तथा राजसमंद के पार्टी जिला अध्यक्ष एवं प्रमुख जनप्रतिनिधि आसपुर पहुंच रहे हैंl गौरतलब है कि मेवाड़ चुनाव में शुरू से ही शक्तिकेंद्र बना हुआ है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने राजस्थान गौरव यात्रा की शुरुआत राजसमंद के चारभुजा जी से की थी। इसके बाद कांग्रेस ने संकल्प रैली चित्तौड़गढ़ के सावरिया से की। वहीं अब शाह और राहुल गांधी भी इसी संभाग में सम्मेलन करके चुनावी रणनीति को आगे बढ़ाएंगे।