अर्जुन-डूडी के चलते टिकटों की पंचायती में ‘बीकाणा’

दरअसल, कांग्रेस में जहां नेता प्रतिपक्ष की हैसियत नोखा के विधायक रामेश्वर डूडी टिकटों के वितरण में अहम भूमिका में है. वहीं भाजपा में केंद्रीय राज्यमंत्री और बीकानेर सांसद अर्जुनराम प्रदेश भाजपा की चुनाव संचालन समिति के सहसंयोजक है. मेघवाल टिकट वितरण की हर कोर कमेटी में टिकटों के वितरण को लेकर होने वाली हर बैठक में मौजूद रहकर अपनी बात रख रहे हैं.

टिकट वितरण में मेघवाल-डूडी की भूमिका

इतना ही नहीं हाल ही में शीर्ष नेतृत्व ने टिकटों के वितरण को लेकर प्रदेश के अलग-अलग दौरों में भेजे नेताओं में नागौर जिले की रायशुमारी अर्जुनराम मेघवाल ने ही की है. हालांकि टिकटों के वितरण में अपनी पंचायती को लेकर मेघवाल की तुलना में डूडी ज्यादा आक्रामक है. राहुल गांधी की बीकानेर में हुई रैली के बाद खुद को सीएम की रेस में मानने वाले डूडी की कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में टिकटों के वितरण को लेकर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट से तनातनी होने की भी खबरें आई थीं. हालांकि डूडी ने इन खबरों का खंडन करते हुए कहा था कि सब मिलकर प्रत्याशियों का चयन करेंगे, लेकिन माना जा रहा है कि किसी भी हाल में डूडी जिले की पंचायती में पीछे नहीं रहेंगे. वहीं भाजपा में अर्जुनराम मेघवाल की जिले में पंचायती को ज्यादा महत्व मिलता नजर नहीं आ रहा है. खुद मेघवाल ने भी स्वीकार किया था कि भाजपा में किसी एक व्यक्ति की नहीं बल्कि पूरी कमेटी की राय से टिकटों का वितरण होगा. इन सबके बावजूद प्रदेश में टिकटों के वितरण में बीकानेर केंद्र में इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है.