जैसलमेर-पोकरण में भाजपा ने नए चेहरों पर लगाया दांव, फिर खेला हिंदू कार्ड

जैसलमेर विधानसभा से विधायक छोटूसिंह भाटी और पोकरण विधायक शैतानसिंह राठौड़ का टिकट काट दिया गया है. भाजपा की बुधवार को जारी हुई दूसरी सूची में दोनों विधायकों का पत्ता काटकर नए चेहरों को मौका दिया गया. जैसलमेर विधानसभा से किसान नेता सांगसिंह भाटी पर दाव खेला गया है. किसान नेता सांगसिंह विधानसभा चुनाव 2003 में भारतीय जनता पार्टी को जैसलमेर विधानसभा से जीत दिलवा चुके हैं.
वहीं 2008 और 2013 में जैसलमेर विधानसभा से लगातार दो बार विधायक छोटूसिंह भाटी धोरों में कमल का फूल खिलाने में सफल रहे हैं. लगातार दो बार विधायक रहने के बावजूद टिकट कटने से जैसलमेर में चर्चाओं के बाजार गर्म है. वहीं आरएसएस और भाजपा की प्रतिष्ठित सीट मानी जाने वाली पोकरण विधानसभा पर बाड़मेर के तारातारा मठ के संत प्रतापपुरी को मैदान में उतारा है. पोकरण विधानसभा से कांग्रेस से संभावित उम्मीदवार सालेह मोहम्मद के खिलाफ हिन्दू कार्ड खेलते हुए भाजपा ने महंत प्रतापपुरी को मौका दिया है. पोकरण से विधायक शैतानसिंह का टिकट काटा गया है. गत चुनावों में शैतानसिंह ने कांग्रेस के सालेह मोहम्मद को करीबन 35 हजार मतों से हराया था. करीबन 35 हजार मतों से जीतने के बावजूद शैतान सिंह राठौड़ का टिकट कटना भी चर्चा का विषय बना हुआ है. वहीं जैसलमेर जिले में कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दोनों विधानसभा सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा का इंतजार है. गौरतलब है कि प्रदेश में चुनाव 7 दिसम्बर को हैं. भाजपा अपनी दो सूची जारी कर चुकी है. जिसमें पहली सूची में करीब 131 सीटों पर प्रत्याशियों की घोषणा की गई थी. दूसरी सूची में कुल 31 नाम जारी किए गए हैं। 38 सीटों पर अभी भी प्रत्याशियों की घोषणा होना बाकी हैं. वहीं कांग्रेस ने फिलहाल अपनी कोई भी सूची जारी नहीं की है.