BJP काटेगी 87 विधायकों के टिकट, प्रदेश और केंद्रीय नेतृत्व में बनी सहमति

बीजेपी हार की आशंका वाले विधायकों को अब आगामी विधानसभा चुनाव में मैदान में नहीं उतारेगी. बीजेपी अपने मौजूदा विधायकों में से 87 विधायकों के टिकट काटेगी. टिकटों को लेकर कराए गए सर्वे और रायशुमारी के आधार पर पार्टी में इस मामले को लेकर प्रदेश और केंद्रीय नेतृत्व में सहमति बन गई है. प्रदेश व केंद्रीय नेतृत्व दोनों ही हार की आशंका वाले विधायकों को टिकट काटने के पक्ष में हैं. बता दें कि विधानसभा चुनावों के लिए प्रत्याशी चयन को लेकर पिछले लंबे समय से बीजेपी में मंथन चल रहा है. इसके लिए पार्टी की ओर से कई स्तर पर सर्वे कराए गए. इनमें विधायक की परफोर्मेंस समेत कई बिंदुओं पर फोकस किया गया था. उसके बाद हाल ही में बीजेपी ने दो चरणों में प्रत्याशी चयन के लिए तीन-तीन दिन तक रायशुमारी कर महामंथन किया था. रायशुमारी का पहला चरण 14 से 16 सितंबर तक पाली के रणकपुर में किया गया था. वहां जोधपुर, उदयपुर, बीकानेर और कोटा संभाग की 102 सीटों के लिए रायशुमारी की गई थी. सूत्रों के अनुसार, उसके बाद निकले निष्कर्ष के आधार पर प्रदेश व केंद्रीय नेतृत्व में इस बात पर सहमति बनी कि हार की आशंका वाले 87 विधायकों को मैदान में नहीं उतारा जाएगा. उनकी जगह नए चेहरों का मौका दिया जाएगा. उसके बाद दूसरा चरण 20 से 22 सितंबर तक जयपुर के आमेर में किया गया था. इस चरण में जयपुर, अजमेर और भरतपुर संभाग की 98 सीटों पर रायशुमारी की गई थी. रायशुमारी के लिए दोनों चरणों में पार्टी के 32 कैटेगरी के करीब दस हजार पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को बुलाया गया था. इस महामंथन में सीएम राजे और प्रदेशाध्यक्ष से लेकर चुनाव अभियान से जुड़े तमाम वरिष्ठ नेता शामिल हुए थे.