कांग्रेस : सचिन टोंक से तो गहलोत सरदारपुरा से लड़ेंगे चुनाव, सीपी और डूडी को भी टिकट

टोंक सीट पर मुस्लिम और गुर्जर बाहूल्य है.  जिसके चलते पायलट ने इस सीट को चुना है. वहीं अशोक गहलोत अपनी परम्परागत विधानसभा सीट  सरदारपुरा से चुनाव लड़ेंगे. साथ ही सीपी जोशी नाथद्वारा से चुनाव लड़ेंगे तो रामेश्वर डूडी नोखा से उम्मीदवारी करेंगे. इनके अलावा गिरिजा व्यास को भी उदयपुर से टिकट मिला है. ऐसे में मुख्यमंत्री पर के छ: में से पांच उम्मीदवार चुनाव लड़ने जा रहे हैं. सचिन पायलट का ये पहला विधानसभा चुनाव होगा. इससे पहले सचिन दौसा से 2004 और अजमेर से 2009 में सासंद रह चुके हैं. वहीं नाथद्वारा से सीपी जोशी चार बार पहले भी विधायक रह चुके हैं. हालांकि इसी सीट पर 2008 में एक वोट से हारने के चलते वो मुख्यमंत्री के पद से चूक गए थे. अशोक गहलोत सरदारपुरा सीट से अपना लगातार पांचवा और वैसे छठी बार चुनाव लडे़ंगे. साल 1977 में गहलोत इस सीट पर पहली बार अपना चुनाव हार गये थे. गहलोत चार बार इसी सीट से विधायक रहते हुए दो बार मुख्यमंत्री बने हैं.वहीं रामेश्वर डूडी नोखा से वर्तमान में विधायक ओर राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी हैं इससे पहले नोखा सीट रिजर्व थी तो डूडी बीकानेर से सांसद रह चुके है हाल में टिकट वितरण को लेकर हुए विवादों को लेकर भी वो खासी चर्चा में रहें है. उधर मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार गिरीजा व्यास की तय हो गई है लेकिन मुख्यमंत्री पद की दोड़ में शामिल अलवर शहर से विधायक रहे और पूर्व सासंद भंवर जितेन्द्र की सीट तय नहीं हुई है मतलब साफ है कि भंवर जितेन्द्र जितेन्द्र शायद चुनाव ना लड़ें. गिरीजा व्यास को उदयपुर से प्रत्याशी घोषित कर दिया है जो भाजपा के गुलाबचंद कटारिया को टक्कर देंगी.