यहां 30 साल से हार रही है कांग्रेस, कार्यकर्ताओं ने इस नेता से लगाई चुनाव लड़ने की गुहार

दरअसल, यह मामला पाली विधानसभा क्षेत्र का है, जहां के कार्यकर्ता पाली के पूर्व सांसद बद्री जाखड़ के पास जोधपुर पहुंचे और उनसे दावेदारी करने का निवेदन किया. जोधपूर स्थित जाखड़ के निवास पर पाली से बड़ी संख्या में कार्यकर्ता पहुंचे. सभी ने एक स्वर में जाखड़ को कांगेस से टिकट की वकालत की. कार्यकर्ताओं के मुताबिक 1985 के बाद से पाली विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस ने जीत का स्वाद नहीं चखा है, लगातार पार्टी चुनाव हार रही है. इस दौरान हर चुनाव में पार्टी प्रत्याशी को लेकर प्रयोग करती आई है, लेकिन सफलता नहीं मिली. ऐसे में जाखड़ पार्टी को सफलता दिला सकते हैं.
पार्टी का आदेश मानूंगा..
वहीं, पूर्व सांसद बद्री राम जाखड़ ने कहा कि वह पार्टी का आदेश मानेंगे. पार्टी जैसा आदेश देगी उसकी पालना करेंगे. उनको टिकत मिलेगा तो चुनाव लड़ेंगे, अन्यथा जिसे भी टिकट मिलेगा उसका साथ देंगे. जाखड़ ने कहा कि हमने इस क्षेत्र में लोगों के लिए काफी कुछ किया है, इसलिए लोग चाहते हैं की इस बार पाली से कांग्रेस मुझे अपना प्रत्याशी बनाए.
परिसीमन से बदला गणित…
2009 में लोकसभा का चुनाव नए परिसीमन से हुआ था. उस समय कांग्रेस ने बद्री जाखड़ को पार्टी का टिकट देकर मैदान में उतारा था. जिसमें जाखड़ ने भाजपा का किला ढहा दिया और जीत दर्ज की थी. लेकिन 2014 के चुनाव में जाखड़ की जगह पार्टी ने उनकी बेटी मुन्नी को टिकट दिया, लेकिन वह चुनाव हार गई.