कांग्रेस के पूर्व सांसदों में भी मची टिकट की होड़, जमीनी कार्यकर्ताओं के चढ़ा बुखार

जयपुर . चुनावी समर में उतरी कांग्रेस के भीतर टिकट को लेकर घमासान जारी है. हर सीट से बहुसंख्यक दावेदारों के चलते परेशान कांग्रेस के पूर्व सांसद और लोकसभा चुनाव लड़ चुके नेता भी अलग-अलग सीट से दावेदारी जता रहे हैं. लोकसभा का मैदान छोड़ विधानसभा के रण में उतरने की तैयारी कर रहे इन नेताओं की दावेदारी के बाद हर सीट पर टिकट का संघर्ष भी तेज होता नजर आ रहा है.  जिसे देखकर पार्टी के जमीनी कार्यकर्ता भी असमंजस में दिखाई दे रहे हैं.
विधानसभा चुनाव में भाजपा को पटखनी देने  के लिए कांग्रेस के भीतर केवल जिताऊ उम्मीदवारों को ही मैदान में उतारने की तैयारी की जा रही है. प्रदेश चुनाव समिति की बैठक के बाद स्क्रीनिंग कमेटी की चेयरमैन कुमारी शैलजा भी साफ कर चुकी हैं कि केवल जिताऊ प्रत्याशी ही मैदान में उतारे जाएंगे. वहीं, टिकट को लेकर चली बैठक के बीच पूर्व सांसद और लोकसभा चुनाव लड़ चुके प्रत्याशियों के भी विधानसभा चुनाव लड़ने की इच्छा सामने आने लगी है. लोकसभा चुनाव के मैदान में उतर चुके ये नेता तर्क दे रहे हैं कि वे पहले भी विधायक रहे हैं. ऐसे में ये जरूरी नहीं है कि जो लोकसभा चुनाव लड़ चुका हो वो आगे भी लोकसभी ही लड़ेगा.
पूर्व सांसदों और प्रत्याशियों के भी ताल ठोकने के बाद से संबंधित  सीट से दावेदारी जता रहे नेताओं के मन में भी टिकट को लेकर डर बैठ गया है. माना जा रहा है कि पार्टी स्तर पर टिकट देने के दौरान इन बड़े नेताओं पर पहले ध्यान दिया जाएगा. ऐसे में उनके टिकट की दावेदारी पर पानी फिर सकता है. पार्टी सूत्रों की मानें तो पिछली लोकसभा चुनाव में हार का सामना कर चुके  25 में से 15 प्रत्याशी विधानसभा चुनाव लड़ने का मन बना चुके हैं.
इसके पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि इस बार कांग्रेस के नेताओं को पूरा विश्वास है कि सूबे में कांग्रेस की सरकार बनेगी.  ऐसे में उन्हें मंत्री का पद आसानी से मिल जाएगा. वहीं, पार्टी के जानकारों का कहना है कि लोकसभा चुनाव लड़ चुके बड़े नेताओं के चुनावी ताल ठोकने के बाद से जमीनी कार्यकर्ता  असमंजस में पड़ गया है. क्योंकि, उनकी दावेदारी के आगे कार्यकर्ताओं की इच्छा और सुझाव में ज्यादा दम दिखाई नहीं दे रहा.
ये जता रहे हैं दावेदारी

सूत्रों की मानें तो विधानसभा की तरफ रुख करने वाले बड़े नेताओं में पीसीसी चीफ सचिन पायलट, डॉ. सी.पी जोशी, गिरिजा व्यास, नमोनारायण मीणा, रघुवीर मीणा, हरीश चौधरी आदि नेताओं का नाम शामिल है. वहीं, उपचुनाव में विजयी रहे अजमेर सांसद रघु शर्मा और अलवर सांसद कर्ण सिंह भी विधानसभा की राह ढूंढ रहे हैं.