गहलोत दो दिन के लिए घर आए, यहां भी दावेदारों ने घेर लिया, कर्मतारी नेता, अधिकारी… सबने

इस दौरान जिले की ओसियां, भोपालगढ़, लोहावट, लूणी, फलोदी, बिलाड़ा से बड़ी संख्या में टिकट के दावेदार अपने समर्थकों के साथ पहुंचे. इसमें खास बात यह रही कि भारतीय प्रशासनिक सेवा के शीर्षस्थ अधिकारी रहे केआर मेघवाल, कर्मचारी नेता शंभूसिंह मेडतिया, प्रदेश कांग्रेस सचिव करणसिंह उचियारड़ा भी शामिल रहे. इसके अलावा गहलोत से लीला मदेरणा, महेंद्र विश्नोई सहित मारवाड़ के अन्य विधानसभा क्षेत्रों के दावेदार भी मिलने पहुंचे. वहीं इनकम टैक्स विभाग से सेवानिवृत हुए केआर मेघवाल इस बार भोपालगढ़ से टिकट की मांग रहे हैं. मेघवाल अपनी वीआर फाइल कर चुके हैं. लेकिन अभी खुद खुल कर नहीं बोल रहे हैं. कैमरे के पीछे उन्होंने बताया कि दो दिन बाद उनका वीआर फाइनल हो जाएगा तो वो खुलकर मीडिया से बात करेंगे. हालाकि मेघवाल भी भोपालगढ़ में बाहरी हैं. लेकिन लंबे समय से यहां सक्रिय हैं. इसलिए उनके समर्थकों का मानना है कि वे इस बार नए चेहरे के रूप में चुनाव जीत सकते हैं. पिछले दो बार से यह सीट भाजपा की कमसा मेघवाल जीत रही हैं. कर्मचारी नेता शंभूसिंह मेडतिया ओसियां से टिकट मांग रहे हैं. मेडतिया का कहना है कि पार्टी उन्हें टिकट देगी तो ही चुनाव लडेंगे. उनको टिकट मिलने से पार्टी का कर्मचारी वर्ग जुड़ेगा.

उचियारड़ा भी पहुंचे दावेदारी करने
जोधपुर जिले में सचिन पायलट गुट के सबसे मजबूत चेहरे के रूप में माने जाने वाले करण सिंह उचियारड़ा भी अपने समर्थकों के साथ अशोक गहलोत से मिलने पहुंचे. उन्हें लोहावट से टिकट चाहिए. पिछले लंबे समय से पायलट का साथ देने से गहलोत दूरी बनाए हुए हैं. लेकिन जोधुपर में टिकट के लिए गहलोत के धोक लगाने उन्हें आना ही पड़ा. हालाकि गहलोत ने मंगलवार को ही कहा कि भले ही कोई उनका आलोचक हो. लेकिन अगर जीतने वाला उम्मीदवार है तो उसे टिकट दिया जाएगा.