बेनीवाल की बाड़मेर में एंट्री से फूले कांग्रेस-भाजपा के हाथ-पांव, 7 में से 4 सीटों पर बिगड़ते जातीय समीकरण

भाजपा सांसद के बेटे द्वारा हनुमान बेनीवाल समर्थन में की गई अपील ने कांग्रेस और भाजपा दोनों की नींद उड़ा दी है. आपको बता दें कि बायतु में एक रात्रि जागरण में शिरकत करने पहुंचे निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल और स्थानीय विधायक कैलाश चौधरी के सामने बाड़मेर से भाजपा सांसद और कद्दावर जाट नेता कर्नल सोनाराम के बेटे डॉक्टर रमन चौधरी ने हनुमान बेनिवाल को मजबूत करने की अपील की थी. खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल लंबे समय से तीसरे मोर्चे को लेकर अपनी बड़ी रैलियां कर चुके हैं. अब उन्होंने 29 तारीख को अपनी हुंकार महारैली का आयोजन राजस्थान की राजधानी जयपुर में किया है. रैली को लेकर हनुमान बेनीवाल राजस्थान के विभिन्न जिलों के दौरे पर निकले हुए हैं. इसी कड़ी में हनुमान बेनीवाल ने बाड़मेर जिले के जागरण कार्यक्रम शिरकत की. वहीं उन्होंने जागरण में आए लोगों को पीले चावल देते हुए अधिक से अधिक संख्या में रैली में आने का न्यौता दिया. सूत्रों की माने तो बेनीवाल बाड़मेर जिले की 4 सीट पर अपने उम्मीदवार उतारेंगे. बाड़मेर जिले में जाट और दलित समाज को एकजुट करने की रणनीति बनाई है. जिसके तहत उन्होंने बाड़मेर जिले के दलित नेता उदाराम को भी अपने साथ ले लिया है. वहीं दलित नेता उदाराम भी रात को 12 बजे भीड़ के साथ निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल का इंतजार करते नजर आये. निर्दलीय विधायक को मिलते दलितों के समर्थन को देखते हुए कांग्रेस और भाजपा के नेताओं में बेचैनी बढ़ गई है. वहीं डॉ रमन चौधरी के इस बयान से उन कयासों को बल मिला है कि कर्नल हनुमान बेनीवाल के साथ जा सकते हैं. वहीं हनुमान बेनीवाल ने खास बातचीत करते हुए हुंकार महारैली को लेकर कहा कि राजस्थान के दौरे पर निकला हूं. हनुमान बेनीवाल बाड़मेर पहुंचे थे उसके बाद बायतु में एक सभा में शामिल हुए. जहां बेनीवाल ने कहा कि तीसरे मोर्चे पर मेरा साफ तौर पर कहना है कि मायावती, अखिलेश या ममता बेनर्जी जब मुख्यमंत्री बन सकते हैं तो एक किसान मुख्यमंत्री क्यों नहीं बन सकता है. बस इसके लिए राजस्थान की दो तीन जातियां को एक साथ आना होगा.

उन्होंने कहा कि इससे पहले भी लोगों ने तीसरे मोर्चे को लेकर प्रयास किए थे लेकिन वह प्रयास रंग नहीं लाये, क्योंकि उनकी राजनीति जिलों तक ही सीमित रह जाती थी. बेनीवाल के मुताबित वे पिछले काफी समय से पूरे राजस्थान किसान वर्ग से जुड़े हैं. उन सब को साथ में लेकर तीसरे मोर्चे का निर्माण करने वाले हैं. हनुमान बेनीवाल का कहना है कि जब दो या तीन जातियां मिल जाएंगी तो भारी मात्रा में हम लोग जीतकर आएंगे. फिर हम अपनी ताकत भाजपा और कांग्रेस को बताएंगे.