कल वसुंधरा गई थी माथुर से मिलने…आज माथुर गए हैं वसुंधरा से मिलने

इसी कड़ी में आज भाजपा सांसद और पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम प्रकाश माथुर मुख्यमंत्री आवास पहुंचकर सीएम वसुंधरा राजे से मुलाकात की तो, वहीं केंद्रीय मंत्री और प्रदेश चुनाव प्रबंधन समिति के संयोजक गजेंद्र सिंह शेखावत ने भाजपा मुख्यालय पहुंचकर संगठन महामंत्री चंद्रशेखर से सियासी मंत्रणा की.
माथुर-राजे में हुई चर्चा
खास बात ये है कि बुधवार को जब मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे जयपुर से दिल्ली रवाना हुईं थी तो, उन्होंने पहले ओम प्रकाश माथुर के घर जाकर उनसे मुलाकात की थी. लेकिन जब मुख्यमंत्री दिल्ली से जयपुर लौट आई हैं तो खुद ओम प्रकाश माथुर ने मुख्यमंत्री आवास पहुंचकर सीएम वसुंधरा राजे से सियासी मंत्रणा की. करीब 1 घंटे चली मंत्रणा के बाद ओम प्रकाश माथुर मीडिया से बात किए बिना ही अपने निवास पर चले गए.
कुछ सीटों पर नहीं बनी सहमति
बताया जा रहा है कि दोनों ही नेताओं के बीच दिल्ली में अमित शाह से हुई मंत्रणा और वहां से मिले निर्देशों को लेकर चर्चा की गई थी. उन सीटों पर भी चर्चा हुई जिन पर केंद्रीय नेतृत्व की ओर से प्रत्याशियों के पैनल को नकार दिया गया था. खबर है कि  2 दिन चली प्रदेश कोर कमेटी की बैठक में जो पैनल तैयार किया गया था उनमें से अधिकतर सीटों पर नेताओं की सहमति बन गई. लेकिन कुछ सीटें ऐसी भी थीं जिस पर संगठन महामंत्री ने आपत्ति जताई थी. वहीं कुछ पर बने पैनल पर ओम माथुर ने अपनी सहमति नहीं दी थी.
सर्वे और पैनल से मेल नहीं का रहे नाम
ऐसे में ये भी कहा जा रहा है कि केंद्रीय स्तर पर राजस्थान के विधानसभावार प्रत्याशियों के लिए जो सर्वे कराया गया था उसकी रिपोर्ट और प्रदेश भाजपा की ओर से तैयार किए गए पैनल में शामिल नाम एक दूसरे से मेल नहीं खा रहे थे. जिसके चलते प्रदेश ने पैनल की अधिकतर सीटों पर प्रत्याशियों के नाम को वापस चिंतन मनन के लिए प्रदेश नेताओं को सौंप दिया.
पुराना राग अलाप रहे भाजपा नेता
हालांकि दिल्ली में अमित शाह के साथ बंद कमरे में हुई बैठक में वो कौन सी सीटें हैं, जिस पर आम सहमति नहीं बन पाई. इस बारे में कोई भी प्रदेश नेता कुछ भी बोलने से इनकार कर रहा है. वहीं प्रदेश के भाजपा नेता अब भी अपना पुराना राग अलाप रहे हैं कि भाजपा में प्रत्याशी तो आम सहमति से ही तय होते हैं और हुए भी हैं.