जयपुर से एक व्यक्ति ने काटा था ‘दाता’ का टिकट, खुद मोदी ने मुझे बताया- मानवेन्द्र

पूर्व केन्द्रीय मंत्री जसवंत सिंह के बेटे  मानवेन्द्र सिंह ने शनिवार को बाड़मेर के पचपदरा में स्वाभिमान रैली को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने भारतीय जनता पार्टी पर जमकर निशाना साधा. मंच से सभा को संबोधित करते हुए मानवेन्द्र ने कहा कि 2014  लोकसभा चुनाव के दौरान जब भाजपा ने जसवंत सिंह का टिकट काटा था, तभी से हमारे स्वाभिमान को चोट पहुंच रही है. उन्होंने बताया कि 2014 में चुनाव के नामांकन के दौरान एक दिन मेरे पास नरेन्द्र मोदी का फोन आया. मोदी ने कहा कि जसवंत सिंह को लेकर जो भी हुआ उसमें मेरा कोई लेना देना नहीं है. जिस बैठक में यह निर्णय लिया गया उसमें मैं नहीं था. मोदी ने बताया कि यह षडयंत्र किसी जयपुर के रहने वाले और दिल्ली के दो लोगों ने किया है. इससे ज्यादा मैं किसी का नाम नहीं ले सकता. मानवेन्द्र ने कहा कि हम समझ गए उनका इशारा किस तरफ था. पचपदरा में स्वाभिमान रैली के जरिए अब मानवेन्द्र सिंह ने पूरी तरह भाजपा और सरकार के खिलाफ हल्ला बोल दिया है. उन्होंने सभा से ऐलान किया है कि भाजपा ने हमारे स्वाभिमान पर आघात किया है, इसका बदला लिया जाएगा. कमल का फूल हमारी भूल है. पिछले साढ़े चार सालों में इन लोगों (भाजपा) ने जो पीड़ा दी है और प्रताड़ित तथा परेशान किया है, मगर हमारा स्वाभिमान का जो उत्साह है वो कम नहीं हुआ है. स्वाभिमान की रक्षा में साथ देने वाले लोगों की संख्या बढ़ी है.
‘स्वाभिमान रैली’ में शामिल हुई आनंदपाल की मां
दरअसल सभी राजनीतिक दलों की निगाहें विधायक मानवेंद्र की रैली पर टिकी हुई थी. कायास ये लगाए जा रहे थे कि इस रैली में भाजपा और कांग्रेस से नाराज चल रहे नेता मानवेंद्र के समर्थन में उतर सकते हैं. हालांकि रैली में आनंदपाल की मां निर्मला कंवर और सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने शामिल होकर मानवेन्द्र सिंह का समर्थन किया. वहीं स्वाभिमान रैली में बड़ी संख्या में राजपूत नेता और समाज के लोग एकजुट हुए.
मानवेंद्र की स्वाभिमान रैली ‘शक्ति प्रदर्शन’

लोकसभा चुनावों के बाद से भाजपा से नाराज विधायक मानवेन्द्र सिंह पहली बार खुलकर सामने आये हैं. विधानसभा चुनाव की सरगर्मी के बीच पचपदरा में स्वाभिमान रैली बुलाई गई.  और इसे पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह के परिवार का शक्ति प्रदर्शन माना जा रहा है. असंतुष्ट भाजपा नेताओं और नाराज राजपूतों का रैली में जुडऩा अहम माना जा रहा है. हालांकि अनुमान ये भी लगाए जा रहे हैं कि मानवेन्द्र कांग्रेस का रास्ता चुन सकते हैं. विधायक मानवेंद्र सिंह का कहना है कि जिनके स्वाभिमान को चोट पहुंची है वे हमारे साथ जरूर जुड़ेंगे. बताया जा रहा है कि जसवंत सिंह के परिवार के संपर्क में दिल्ली के कई नेता शामिल हैं. यशवंत सिन्हा, शत्रुघ्न सिन्हा और अरुण शौरी के संपर्क में होने की बात की जा रही है. वहीं पत्नी चित्रा सिंह सभाओं में खुलकर भाजपा का विरोध कर रही हैं और जसवंत के अपमान का बदला लेने की बात कह रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here