”मैं भाजपा में नहीं जा रही, शिव सीट से चाहती हूं टिकट, रचा जा रहा राजनीतिक षडयंत्र”

दरअसल, पिछले कुछ दिनों से बाड़मेर जिले में  चर्चा चल रही है कि हादी परिवार कांग्रेस से टिकट नहीं मिलने से खफा होकर भाजपा में जा सकता है. लेकिन पूरी चर्चा पर शमा बानो ने अपने तरीके से विराम लगा दिया है. पूरे मामले पर शमा बानो ने कहा कि मेरा परिवार कांग्रेस के साथ शुरू से जुड़ा है, अभी भी जुड़ा है और आने वाले दिनों में भी जुड़ा रहेगा. शिव विधानसभा सीट के लिए कांग्रेस से टिकट मांगा है और अगर पार्टी टिकट नहीं देती है, तो भी पार्टी जिसको भी को टिकट देगी उसके साथ कांग्रेस का प्रचार किया जाएगा. बता दें कि पश्चिमी राजस्थान में कांग्रेस का अल्पसंख्यक वोट बैंक एक बहुत बड़ा माना जाता है और इसमें अब्दुल हादी परिवार का हमेशा से ही अहम रोल रहा है. हादी परिवार का बाड़मेर, जैसलमेर और जालोर की विधानसभा सीटों पर गहरा प्रभाव है. अब्दुल हादी कांग्रेस से कई बार विधायक रह चुके हैं. वहीं अब्दुल हादी के बेटे गफूर अहमद पिछली गहलोत सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्तकर श्रमबोर्ड के अध्यक्ष भी रह चुके हैं. वहीं गफूर अहमद की पत्नी शमा बानो वर्तमान में राजस्थान कांग्रेस कमेटी में सचिव पद पर हैं. साथ चोहटन प्रधान भी रह चुकी हैं.  हालांकि माना ये भी जा रहा है कि इस बार शिव विधानसभा सीट से कांग्रेस पूर्व मंत्री अमीन खान को उतार सकती है.