कांग्रेस की सरकार बनने के 20 दिन के भीतर लगे झटके पर सियासत गरमाई

जयपुर . विधानसभा चुनाव खत्म होने के महज 20 दिन के भीतर ही कांग्रेस को झटका लगा है. पंचायती राज संस्थाओं के उपचुनाव में भाजपा ने कांग्रेस को पछाड़ दिया है. कांग्रेस की सरकार बनने के 20 दिन के भीतर लगे इस झटके पर सियासत गरमाई हुई है. वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे भी ट्वीट करते हुए लिखा है कि जनता के उम्मीदों पर सरकार खरी नहीं उतरी, इसलिए लोगों का मोह भंग होने लगा है.
जानकारी के मुताबिक विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद 8 जिलों की 10 सीटों पर हुए उपचुनाव के दौरान भाजपा ने 6 सीटों पर जीत दर्ज की है. जबकि, कांग्रेस के खाते में चार सीटें गई हैं. इन सभी सीटों पर 28 दिसंबर को मतदान हुआ था. विधानसभा चुनाव खत्म होते ही कांग्रेस को उपचुनाव में मिली हार के बाद से सियासत गरमाई हुई है. साथ ही सियासी चर्चाओं का बाजार भी गर्म हो गया है. आपको बता दें कि इन 10 सीटों में से 6 सीटों पर पहले कांग्रेस का कब्जा था. जबकि, तीन पर भाजपा और एक पर निर्दलीय का कब्जा था. लेकिन, हाल में हुए चुनाव के बाद भाजपा को जहां तीन सीटों का फायदा हुआ है, वहीं, कांग्रेस को दो सीटों का नुकसान हुआ है. वहीं, उपचुनाव में मिली जीत पर पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने ट्वीट किया है. उन्होंने लिखा है कि ‘पंचायत राज संस्थाओं के उपचुनावों में प्रत्याशियों को विजयी बनाने के लिए सभी मतदाताओं का हार्दिक आभार’. ‘ये नतीजे बता रहे हैं कि नई सरकार जनता के विश्वास पर खरा नहीं उतरी, इसलिए महज 20 दिन में ही लोगों का मोहभंग हो गया और उन्हें भाजपा सरकार याद आने लगी है’.
वसुंधरा के ट्वीट के बाद से सियासी पारा चढ़ गया है. आपको बता दें कि उपचुनाव के दौरान भाजपा ने भीलवाड़ा में मांडलगढ़ के वार्ड नंबर 6, चुरू में बीदासर के वार्ड नंबर 9 और दौसा में लवण के वार्ड नंबर 5 में भाजपा प्रत्याशियों ने जीत हासिल की है. इसी तरह मेड़ता के वार्ड नंबर 2 और जैतारण के वार्ड नंबर 4 में भाजपा ने बाजी मारी है. वहीं जिला परिषद की एकमात्र अलवर सीट पर भाजपा के जाले सिंह ने जीत का परचम लहराया है. जबकि, कांग्रेस ने बाड़ी के वार्ड नंबर 9,13,18 और लाडपुरा के वार्ड नम्बर 14 पर बाजी मारी है.  गौरतलब है कि यह उपचुनाव पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के कार्यकाल यानी 27 अक्टूबर को होने थे. लेकिन, इसे स्थिगित कर दिया गया था.