विधायकों के टिकट बचाने के लिए वसुंधरा सामने खड़ी हो गई है…जयपुर में माथुर से मिली तो दिल्ली में शाह से

बुधवार की सुबह जयपुर में ओम माथुर से मिलने के बाद वसुंधरा राजे सीधे दिल्ली पहुंची जहां टिकटों पर मंथन के लिए चुनाव समिति की बैठक में उन्होंने हिस्सा लिया. दिनभर चली मैराथन बैठक कभी अमित शाह के निवास पर हुई तो कभी प्रकाश जावड़ेकर के घर. बताया जा रहा है कि वसुंधरा राजे के कुछ करीबी विधायकों के टिकट काटे जा सकते हैं. टिकटों पर मंथन के लिए इस बैठक में राजस्थान चुनाव प्रभारी केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी, प्रदेश संगठन मंत्री चंद्रशेखर, चुनाव प्रबंधन समिति संयोजक व केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत राष्ट्रीय महामंत्री भूपेंद्र यादव सतीश अशोक परनामी राजेंद्र सिंह राठौड़ शामिल हुए. खास बात यह रही कि दोपहर 2:30 बजे से टिकटों को लेकर जारी मंत्रणा शाम 5:30 बजे प्रकाश जावड़ेकर के घर पर खत्म हुई. इसके बाद सभी नेता एक साथ 11 अकबर रोड स्थित भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के आवास पर पहुंचे वहां करीब 1 घंटे मंत्रणा के बाद कई सीटों पर सहमति न बन पाने के चलते एक बार फिर जावड़ेकर के आवास पर शाम 7:00 बजे बैठक शुरू हुई. विश्वस्त सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भाजपा में जिन वर्तमान विधायकों की टिकट काटने को लेकर आलाकमान सख्त है वही वसुंधरा राजे भी अपने विधायकों की टिकट बचाने के लिए अड़ियल रवैया अपनाए हुए हैं. बताया जा रहा है कि अमित शाह ने जावड़ेकर को मध्यस्था कर बीच का रास्ता निकालने के निर्देश दिए हैं जिसके चलते एक बार फिर जावड़ेकर के घर बैठक प्रारंभ हुई.

आपको बता दें कि दिल्ली जाने से पूर्व वसुंधरा राजे ओम माथुर के आवास पर बिना सुरक्षा के ही पहुंच गई. सूत्रों के अनुसार विधानसभा सीटों पर अपने निर्देशन में पैनल बनवा चुकी वसुंधरा ने इस मुलाकात में अपने इरादों को साफ बता दिया है कि टिकट बंटवारे में उनकी ही चलेगी. भाजपा के संसदीय बोर्ड की बैठक 1 नवंबर को होनी है. जिसमें टिकटों पर नाम फाइनल किए जाएंगे.