किसे जिताएगी हाड़ौती की जनता, बदली नजर आ रही है यहां की तस्वीर

कोटा। राजस्थान के 17 विधानसभा सीटों वाले इलाके हाड़ौती में चार जिले आते हैं कोटा 6 विधानसभा सीट, बूंदी 3 विधानसभा सीट, बारान 4 विधानसभा सीट और झालावाड़ 4 विधानसभा सीट शामिल है। पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने यहां की 17 सीटों में से 16 जीती थीं लेकिन अब तस्वीर बदली नजर आ रही है। इतिहास पर नजर डालें तो हमेशा से यह क्षेत्र राजनीतिक रूप से काफी सक्रिय रहा है। वर्तमान में राजे मंत्रिमंडल में हाडौती संभाग से तीन मंत्री हैं। स्वतंत्रता संग्राम में हिस्सा लेने वाले यहां के बहुत से लोगों ने कांग्रेस ज्वॉइन की थी। मादिर ने कहा एडवोकेट बेनी माधव शर्मा, गुलाबचंद शर्मा, शिवप्रताप श्रीवास्तव, सेठ मोतीलाल जैन, नागेन्द्र बाला, योगेन्द्र बाला और क्षेत्र के कई अन्य नेताओं ने प्रजामंडल के बैनर तले आजादी की लड़ाई में हिस्सा लिया।

चुनावी अखाड़े में उतारा
1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान गुलाबचंद व शिवप्रताप ने कोटा की कोतवाली पर तीन दिन तक कब्जा किए रखा था। यहां की एक स्वतंत्रता सैनानी नागेन्द्र बाला देश की पहली जिला प्रमुख बनीं। उसके बाद वह 1962 में छाबड़ा से विधायक भी चुनी गईं। आरएसएस समर्थन प्राप्त अखिल भारतीय राम राज्य परिषद् (आरपीपी), जिसका बाद में भारतीय जन संघ में विलय हो गया था, ने पहले विधानसभा चुनाव 1952 में राजपूत नेताओं को चुनावी अखाड़े में उतारा। आरपीपी ने अगले विधानसभा चुनावों में कई सीटें जीतीं। 2013 के विधानसभा चुनावों में हाड़ौती की कुल 17 में से 16 सीटें जीतने वाली बीजेपी की जड़ें इस इलाके में आपातकाल के बाद मजबूत होना शुरू हुई।

गैर कांग्रेसी नेता सीएम
1977 में राज्य में जनता पार्टी ने 200 में से 151 सीटें जीतकर अपनी सरकार बनाई और राज्य में भैरो सिंह शेखावत के रूप में पहला गैर कांग्रेसी नेता सीएम बना। भैरो सिंह शेखावत बारान जिले की छाबरा सीट से चुनाव जीते थे। तत्कालीन पीएम इंदिरा गांधी द्वारा अपनी सरकार को बर्खास्त किए जाने के बाद 1980 में उन्होंने बीजेपी ज्वॉइन की। इसके बाद शेखावत फिर से सीएम बने थे। वह विपक्ष के नेता भी रहे। इसके बाद वसुंधरा राजे के रूप में हाड़ौती ने राज्य को फिर से सीएम दिया। झालावाड़ जिले की झालरापाटन सीट से वह लगातार पिछले तीन बार से जीतती आ रही हैं।
हाड़ौती संभाग में हुए चुनाव
2003 विधानसभा चुनाव: कुल 18 सीटें
बीजेपी:12
कांग्रेस: 4
अन्य: 2
2008 विधानसभा चुनाव: कुल 17 सीटें
बीजेपी: 7
कांग्रेस:10
अन्य : 0
2013 विधानसभा चुनाव: कुल 17 सीटें
बीजेपी:16
कांग्रेस:1
अन्य :0